जीवन का सफर यूँ ही तनहा बीत गया, और कहने को कदम -कदम पर अपने थे !! -- undefined
copy